25.1 C
New Delhi
Tuesday, October 19, 2021

मातृभाषा हिंदी का सुखद क्षण

spot_img

About Author

रीता राय
रीता राय
लेखिका.
पढने में समय: < 1 मिनट

मातृभाषा का क्रंदन सुन, एक अबोध बालक आया ।
इस माँ के आंसू अपने नन्हे हाथों से पोछा ।।

अपने गुलाबी कोमल हाथों से माँ को उठाया ।
हिंदी माँ, मैंने तुझसे ही ‘माँ’ कहना सीखा ।
क ख ग घ के वर्ण माला से मैंने साक्षर होना सीखा ।।

सबको ज्ञान देने वाली, सबको शिक्षित करने वाली हो ।
अज्ञानी जन जब, आंग्ल भाषा के मोह बंधन से छूटेंगे ।।

तब वे तुम्हारी ही महिमा का गुणगान करेंगे ।
तब तुम्हे हम तुम्हारे सिंहासन पर बैठाएंगे ।
तेरी वंदना, तेरी जयकार, तुम्हारी पूजा करेंगे ।।

उल्लासित हिंदी भाषा ने, बालक को स्नेहिल प्यार दिया ।
आज सभी उस मातृभूमि व मातृभाषा का पूजन अभिनन्दन करते हैं ।।

आओ हम सब मिल कर एक नया संकल्प लें ।
जय हिंदी, जय भारत, जय गणनायक का उद्घोष करें ।।

***

नोट: प्रस्तुत लेख, लेखक के निजी विचार हैं, यह आवश्यक नहीं कि संभाषण टीम इससे सहमत हो।
Note: The opinions expressed in this article are the author’s own and do not reflect the view of the संभाषण Team.

About Author

रीता राय
रीता राय
लेखिका.

1 COMMENT

guest
1 Comment
Inline Feedbacks
View all comments
लता राय
लता राय
1 year ago

बहुत ही अच्छी कविता 🙏

कुछ लोकप्रिय लेख

कुछ रोचक लेख

Subscribe to our Newsletter
error: